Sunday, May 10, 2020

Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma

Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma
Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma

Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma,Panchtantra Ki Kahaniya In Hindi Online,Panchtantra Ki Kahani In Hindi Pdf,Panchtantra Ki Kahaniya Writer,Panchatantra Ki Kahaniya New,Neethi Kathalu In Hindi Matter,Kahaniyan,Panchatantra Stories In Hindi Wikipedia,Panchtantra Ki Kahaniya In English

Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma


Alee Baaba Aur Chaalees Chor

Alee baaba, ek gareeb lakadahaara, ek ameer bhaee, kaasim tha, jisane kabhee bhee apane paise ko apane bhaee ke saath saajha nahin kiya tha. 

Isake bajaay, usane alee baaba, usakee patnee aur bete ke saath bura vyavahaar kiya. Ek din, jab alee baaba ne jangal mein log kaatana shuroo kiya, to unhonne ghodon par bahut saare logon ko dekha aur ve chhip gae. 

Vah ek ped par chadh gaya aur chaalees ghudasavaaron ko dekha. Purushon ke paas sone se bhare hue khatamal the aur ve unhen ek badee chattaan par le gae. 

Ek aadamee roya,, opan, seesam , aur chattaan mein ek daravaaja khula aur aadamee gupha mein ghus gaya. 

Doosaron ne peechha kiya. Thodee der baad, ve baahar aae aur neta ne rote hue kaha, kareeb se til. Jab chor chale gae, alee baaba gupha ke dvaar par chale gae. 

Usane jaadoo ke shabd kahe aur pravesh kiya. Vah sabhee sone, resham, javaaharaat aur sone ke mukut ko dekhakar hairaan rah gaya. 

Yah mahasoos karana ki choron se choree karana theek tha, alee baaba ne apane aur apane parivaar ke lie kuchh sone ka ghar lene ka phaisala kiya. 

Jab vah ghar gaya, to usane apanee patnee ko sona dikhaaya. Unakee patnee jaanana chaahatee thee ki unake paas kitana sona hai. 

Vah apanee patnee ke taraajoo ko udhaar lene ke lie kaasim ke ghar gaya taaki vah sone ka vajan kar sake. 

Vah nahin chaahata tha ki kaasim aur usakee patnee ko sone ke baare mein pata chale, isalie usane kaha ki ve maans ka vajan kar rahe the. 

Kaasim kee patnee ne alee baaba kee patnee par vishvaas nahin kiya aur socha ki unhen maans khareedane ke lie paise kahaan se mile. 

Usane ek pain ke neeche shahad lagaakar alee baaba kee patnee ko dhokha diya. Jab alee baaba kee patnee ne agale din taraajoo lautaaya, to ek sone ka sikka shahad se chipaka hua tha. 

Kaasim kee patnee ko unaka rahasy pata tha. Jab usane kaasim ko apane bhaee ke sone ke baare mein bataaya, to use jalan huee. 

Vah alee baaba ke ghar gaya aur apane bhaee se poochha ki use yah kahaan mila hai. Jab alee baaba ne sone ka sikka dekha, to unhonne apane bhaee ko gupha aur chaalees choron ke baare mein bataaya. 

Agalee subah, kaasim das gadhon ke saath das vishaal chest lekar gupha mein gaya. Vah paasavard kahakar andar ghus gaya lekin vah vaapas jaane ke lie jaaduee shabd bhool gaya. 

Choron ne use andar paaya aur use maar daala. Jab kaasim vaapas nahin aaya, to alee baaba usakee talaash karane gae. 

Usane apane bhaee ke shav ko gupha ke andar lataka paaya aur shav ko ghar le aaya. Kaasim kee naukar marajaaneh kee madad se, unhonne apanee maut ke kaaran ke baare mein sochane ke bina kaasim ko ek achchha daphan diya. 

Choron ne paaya ki shareer chala gaya tha aur jald hee unhen ehasaas hua ki kisee aur ko unake rahasy ko jaanana chaahie. 

Ve shahar mein use dekhane ke lie nikal pade. Ve aadamee ko khojane ke lie kaee yojanaon ke saath aae. 

Haalaanki, har baar unakee yojanaon ko chatur marajaane ne naakaam kar diya. Choron ko antatah us aadamee ka ghar mil gaya jisakee ve talaash kar rahe the. 

Ve usaka naam alee baaba nahin jaanate the. Choron ke neta ne us aadamee ko maarane kee yojana banaee jo unase churaaya tha. 

Usane bees gadhon aur chaalees bade mittee ke tel ke jaar dheele dhakkan khareede. Usane gadhon ko do jaar mein bhar diya aur ek jaar ko tel se bhar diya. 

Usane apane unatees aadamiyon se kaha ki ve apanee talavaaren aur khanjar lekar jaar ke andar chhup jaen. 

Usane unhen un logon se baahar nikalane aur un logon par hamala karane ke lie taiyaar hone ke aadesh die jo unase churaate the. 

Neta jee ne kile ke jaar ko tel se bhar diya. Phir vah raat ke lie bistar kee jaroorat mein ek tel vyaapaaree hone ka bahaana karake alee baaba ke ghar gaya. 

Alee baaba ne unhen bhojan aur ek bistar aur unake gadhon ke lie ek sthir sthaan diya. Chor aangan mein ek lambee kataar mein apane chaalees jaar chhod gaya. 

Marajaaneh ne apanee yojana kee khoj kee aur un par ubalate hue tel daalakar sabhee unatees aadamiyon ko maar daala. 

Jab neta ko pata chala ki usake aadamee ladane ke lie taiyaar kyon nahin hain, to usane dekha ki ve sabhee mar chuke hain aur vah bhaag gaya. 

Kuchh haphton baad choron ka neta ek vyaapaaree ke roop mein prachchhann hokar vaapas shahar chala gaya. 

Vah jald hee alee baaba ke bete, khaalid ke saath dost ban gae, jo unhen raat ke khaane ke lie ghar le gae. 

Alee baaba ne unhen andar aamantrit kiya, lekin marajaaneh ne jald hee us aadamee par shak kiya. Raat ke khaane ke baad, marajaaneh ne atithi ka manoranjan karane ke lie khanjar ke saath ek nrty kiya. 

Samaapt hone ke baad, usane apane khanjar ko uthaaya aur raat ke khaane ke mehamaan ko maar daala. 

Sabhee chaalees chor mar chuke the aur alee baaba aur unaka parivaar ek baar aur sabhee ke lie surakshit tha. 

Alee baaba marajaane se itane prabhaavit hue ki unhonne apane bete ko apane pati ke lie arpit kar diya. 

Khaalid ne khushee-khushee marajaaneh se shaadee kee aur unhen ek bachcha hua. Alee baaba ne khajaane ke saath khaalid ko dikhaane ka phaisala kiya. 

Khaalid ne vaada kiya ki vah, apane bete ko gupha dikhaega jab vah kaaphee boodha ho jaega. Aur isalie alee baaba aur unaka parivaar phir kabhee gareeb nahin raha.

एक समझदार हिरण और एक कायर टाइगर Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma


Yah laghu kahaanee ek samajhadaar hiran aur ek kaayar taigar sabhee logon ke lie kaaphee dilachasp hai. Is kahaanee ko padhane ka aanand len. 

Ek pahaad ke kinaare ghana jangal tha. Jangal mein kaee tarah ke jaanavar rahate the. Ek hiran apane do yuvaon ke saath ghaas aur pattiyaan kha raha tha. 

Yuva idhar-udhar khushee se jhoomate rahe. Hiran ne usake panje ka peechha kiya. Yuva ek gupha mein ghus gae. Hiran bhayabheet tha. 

Yah ek baagh kee gupha thee. Gupha ke chaaron taraph mrt jaanavaron kee haddiyaan theen. Saubhaagy se, us samay baagh gupha ke andar nahin tha. 

Hiran apane yuva logon ko gupha se baahar le jaane kee koshish kar raha tha. Us samay usane ek tez dahaad sunee. Usane kuchh dooree par baagh ko dekha. 

Baagh gupha kee taraph aa raha tha. Ab gupha se baahar jaana khataranaak tha. Usane ek yojana ke baare mein socha. 

Baagh gupha ke kareeb aa gaya tha. Hiran ne apanee aavaaj uthaee aur chillaaya, mere pyaare chhote bachche rote nahin hain. 

Main tumhen khaane ke lie ek baagh ko pakad loonga. Aap achchha dinar kar sakate hain. Baagh ne ye shabd sune. Vah pareshaan tha. 

Usane khud se kaha, gupha se vah ajeeb aavaaj kisakee hai? Mujhe pakadane ke lie ek khataranaak jaanavar andar rah raha hai. 

Main maut se bachane ke lie bhaag jaoonga. Itana kahate hee baagh utanee hee tejee se vahaan se bhaagane laga. 

Ek siyaar ne bhaagate hue baagh ko dekha. Geedad ne poochha, aap bade dar se kyon bhaag rahe hain? 

Baagh ne kaha, mere dost, meree gupha mein ek shaktishaalee aur bhayankar jaanavar rahane ke lie aaya hai. 

Javaan baagh ko khaane ke lie ro rahe hain. Maan vaada kar rahee hai. Unake lie ek baagh ko pakadane ke lie. 

Isalie, main bahut dar se bhaag raha hoon. Chaalaak siyaar ab nishchit tha. Baagh ek kaayar tha. Isane baagh se kaha. Daro nahin. 

Koee bhee jaanavar baagh kee tulana mein ugr ya majaboot nahin hai. Hamen pata lagaane ke lie ek saath chalate hain. 

Lekin baagh ne kaha, main ek mauka nahin lena chaahata. Aap bhaag sakate hain. Mujhe marane ke lie akela chhod diya jaega. 

Isalie, main aapake saath nahin aaoonga. Geedad ne kaha, mujh par bharosa rakho. Aaie ham apanee poonchh ko ek saath milaen. 

Phir main tumhen chhod nahin paoonga. Baagh is prastaav par anichchha se sahamat ho gaya. Siyaar ne unakee poonchh gaanth mein baandh lee. 

Ab ve ek saath gupha kee or chale. Hiran ne siyaar aur baagh ko ek saath aate dekha. Usane phir se aavaaj lagaee. 

Vah gupha ke andar khade apane bachchon kee or chillaaya, mere pyaare bachchon, mainne apane dost, chatur siyaar se, hamaare lie ek baagh ko pakadane ke lie anurodh kiya tha. 

Ab dekho geedad ne hamaare lie ek baagh pakad liya hai. Unhonne baagh kee poonchh ko apanee poonchh se baandh diya hai. 

Yah baagh ko bhaagane se rokana hai. Hamaare khaane ke lie jald hee aapake paas baagh hoga. Baagh ne yah suna. Vah chaunk gaya. 

Use ab yakeen tha. Siyaar ne use dhokha diya. Isalie, baagh ne apanee gupha ke andar khade bhayaanak jaanavar se bachane ka phaisala kiya. 

Usane daudana shuroo kiya. Vah siyaar ke baare mein bhool gaya. Usane siyaar ko chattaanon aur kaanton par ghaseeta. 

Paagal bhaagane mein siyaar do chattaanon ke beech phans gaya. Baagh apanee saaree shakti ke saath kheench liya. 

Usakee poonchh kat gaee. Is ghatana mein siyaar maara gaya. Poonchh vaala baagh jangal ke doosare hisse mein bhaag gaya. 

Hiran aur usake yuva baagh kee gupha se baahar nikal gae. Ve apane jhund mein surakshit roop se shaamil ho gae.

खराब स्वभाव Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma



Ek baar ek chhota ladaka tha, jisaka svabhaav bura tha. Usake pita ne use naakhoonon ka ek thaila diya aur usase kaha ki har baar jab vah apana aapa kho de, to use baad ke peechhe ek keel thokanee hogee. 

Pahale din, ladake ne 37 naakhoonon ko baad mein daal diya tha. Agale kuchh haphton mein, jaisa ki unhonne apane gusse ko niyantrit karana seekh liya, naakhoonon kee sankhya pratidin dheere-dheere kam hotee gaee. 

Unhonne pata lagaaya ki baad mein un naakhoonon ko chalaane kee tulana mein unaka gussa pakadana aasaan tha. 

Ant mein, vah din aaya jab ladake ne apana aapa nahin khoya. Usane apane pita ko isake baare mein bataaya aur pita ne sujhaav diya ki ladaka ab pratyek din ek naakhoon nikaalata hai jisase vah apana aapa bana sake. 

Din beet gae aur ladaka aakhirakaar apane pita ko bataane mein saksham ho gaya ki sabhee naakhoon chale gae the. 

Pita apane bete ko haath mein lekar use baad tak le gaya. Unhonne kaha, aapane achchha kiya hai, mere bete, lekin baad mein chhed dekhen. 

Baad kabhee bhee ek samaan nahin hogee. Jab aap gusse mein cheejen kahate hain, to ve is tarah se ek nishaan chhod dete hain. 

Aap ek chaakoo daal sakate hain. Ek aadamee mein aur ise baahar kheencho. Isase koee phark nahin padega ki aap kitanee baar kahate hain ki mujhe kshama karen. 

Ghaav abhee bhee hai. Ek maukhik ghaav ek bhautik ke roop mein bura hai.

Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma



अली बाबा और चालीस चोर


अली बाबा, एक गरीब लकड़हारा, एक अमीर भाई, कासिम था, जिसने कभी भी अपने पैसे को अपने भाई के साथ साझा नहीं किया था।

इसके बजाय, उसने अली बाबा, उसकी पत्नी और बेटे के साथ बुरा व्यवहार किया। एक दिन, जब अली बाबा ने जंगल में लॉग काटना शुरू किया, तो उन्होंने घोड़ों पर बहुत सारे लोगों को देखा और वे छिप गए।

वह एक पेड़ पर चढ़ गया और चालीस घुड़सवारों को देखा। पुरुषों के पास सोने से भरे हुए खटमल थे और वे उन्हें एक बड़ी चट्टान पर ले गए।

एक आदमी रोया,, ओपन, सीसम , और चट्टान में एक दरवाजा खुला और आदमी गुफा में घुस गया। दूसरों ने पीछा किया। थोड़ी देर बाद, वे बाहर आए और नेता ने रोते हुए कहा, करीब से तिल।

जब चोर चले गए, अली बाबा गुफा के द्वार पर चले गए। उसने जादू के शब्द कहे और प्रवेश किया। वह सभी सोने, रेशम, जवाहरात और सोने के मुकुट को देखकर हैरान रह गया।

यह महसूस करना कि चोरों से चोरी करना ठीक था, अली बाबा ने अपने और अपने परिवार के लिए कुछ सोने का घर लेने का फैसला किया।

जब वह घर गया, तो उसने अपनी पत्नी को सोना दिखाया। उनकी पत्नी जानना चाहती थी कि उनके पास कितना सोना है।

वह अपनी पत्नी के तराजू को उधार लेने के लिए कासिम के घर गया ताकि वह सोने का वजन कर सके। वह नहीं चाहता था कि कासिम और उसकी पत्नी को सोने के बारे में पता चले, इसलिए उसने कहा कि वे मांस का वजन कर रहे थे।

कासिम की पत्नी ने अली बाबा की पत्नी पर विश्वास नहीं किया और सोचा कि उन्हें मांस खरीदने के लिए पैसे कहां से मिले।

उसने एक पैन के नीचे शहद लगाकर अली बाबा की पत्नी को धोखा दिया। जब अली बाबा की पत्नी ने अगले दिन तराजू लौटाया, तो एक सोने का सिक्का शहद से चिपका हुआ था।

कासिम की पत्नी को उनका रहस्य पता था। जब उसने कासिम को अपने भाई के सोने के बारे में बताया, तो उसे जलन हुई।

वह अली बाबा के घर गया और अपने भाई से पूछा कि उसे यह कहाँ मिला है। जब अली बाबा ने सोने का सिक्का देखा, तो उन्होंने अपने भाई को गुफा और चालीस चोरों के बारे में बताया।

अगली सुबह, कासिम दस गधों के साथ दस विशाल चेस्ट लेकर गुफा में गया। वह पासवर्ड कहकर अंदर घुस गया लेकिन वह वापस जाने के लिए जादुई शब्द भूल गया।

चोरों ने उसे अंदर पाया और उसे मार डाला। जब कासिम वापस नहीं आया, तो अली बाबा उसकी तलाश करने गए। उसने अपने भाई के शव को गुफा के अंदर लटका पाया और शव को घर ले आया।

कासिम की नौकर मरजानेह की मदद से, उन्होंने अपनी मौत के कारण के बारे में सोचने के बिना कासिम को एक अच्छा दफन दिया।

चोरों ने पाया कि शरीर चला गया था और जल्द ही उन्हें एहसास हुआ कि किसी और को उनके रहस्य को जानना चाहिए। वे शहर में उसे देखने के लिए निकल पड़े।

वे आदमी को खोजने के लिए कई योजनाओं के साथ आए। हालाँकि, हर बार उनकी योजनाओं को चतुर मरजाने ने नाकाम कर दिया।

चोरों को अंततः उस आदमी का घर मिल गया जिसकी वे तलाश कर रहे थे। वे उसका नाम अली बाबा नहीं जानते थे।

चोरों के नेता ने उस आदमी को मारने की योजना बनाई जो उनसे चुराया था। उसने बीस गधों और चालीस बड़े मिट्टी के तेल के जार ढीले ढक्कन खरीदे।

उसने गधों को दो जार में भर दिया और एक जार को तेल से भर दिया। उसने अपने उनतीस आदमियों से कहा कि वे अपनी तलवारें और खंजर लेकर जार के अंदर छुप जाएं।

उसने उन्हें उन लोगों से बाहर निकलने और उन लोगों पर हमला करने के लिए तैयार होने के आदेश दिए जो उनसे चुराते थे।

नेता जी ने किले के जार को तेल से भर दिया। फिर वह रात के लिए बिस्तर की जरूरत में एक तेल व्यापारी होने का बहाना करके अली बाबा के घर गया।

अली बाबा ने उन्हें भोजन और एक बिस्तर और उनके गधों के लिए एक स्थिर स्थान दिया। चोर आंगन में एक लंबी कतार में अपने चालीस जार छोड़ गया।

मरजानेह ने अपनी योजना की खोज की और उन पर उबलते हुए तेल डालकर सभी उनतीस आदमियों को मार डाला।

जब नेता को पता चला कि उसके आदमी लड़ने के लिए तैयार क्यों नहीं हैं, तो उसने देखा कि वे सभी मर चुके हैं और वह भाग गया।

कुछ हफ्तों बाद चोरों का नेता एक व्यापारी के रूप में प्रच्छन्न होकर वापस शहर चला गया। वह जल्द ही अली बाबा के बेटे, खालिद के साथ दोस्त बन गए, जो उन्हें रात के खाने के लिए घर ले गए।

अली बाबा ने उन्हें अंदर आमंत्रित किया, लेकिन मरजानेह ने जल्द ही उस आदमी पर शक किया। रात के खाने के बाद, मरजानेह ने अतिथि का मनोरंजन करने के लिए खंजर के साथ एक नृत्य किया। समाप्त होने के बाद, उसने अपने खंजर को उठाया और रात के खाने के मेहमान को मार डाला।

सभी चालीस चोर मर चुके थे और अली बाबा और उनका परिवार एक बार और सभी के लिए सुरक्षित था। अली बाबा मरजाने से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने अपने बेटे को अपने पति के लिए अर्पित कर दिया।

खालिद ने खुशी-खुशी मरजानेह से शादी की और उन्हें एक बच्चा हुआ। अली बाबा ने खजाने के साथ खालिद को दिखाने का फैसला किया।

खालिद ने वादा किया कि वह, अपने बेटे को गुफा दिखाएगा जब वह काफी बूढ़ा हो जाएगा। और इसलिए अली बाबा और उनका परिवार फिर कभी गरीब नहीं रहा।

एक समझदार हिरण और एक कायर टाइगर Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma


यह लघु कहानी एक समझदार हिरण और एक कायर टाइगर सभी लोगों के लिए काफी दिलचस्प है। इस कहानी को पढ़ने का आनंद लें।

एक पहाड़ के किनारे घना जंगल था। जंगल में कई तरह के जानवर रहते थे। एक हिरण अपने दो युवाओं के साथ घास और पत्तियां खा रहा था।

युवा इधर-उधर खुशी से झूमते रहे। हिरन ने उसके पंजे का पीछा किया। युवा एक गुफा में घुस गए। हिरण भयभीत था। यह एक बाघ की गुफा थी। गुफा के चारों तरफ मृत जानवरों की हड्डियाँ थीं। सौभाग्य से, उस समय बाघ गुफा के अंदर नहीं था।

हिरण अपने युवा लोगों को गुफा से बाहर ले जाने की कोशिश कर रहा था। उस समय उसने एक तेज़ दहाड़ सुनी। उसने कुछ दूरी पर बाघ को देखा।

बाघ गुफा की तरफ रहा था। अब गुफा से बाहर जाना खतरनाक था। उसने एक योजना के बारे में सोचा। बाघ गुफा के करीब गया था।

हिरण ने अपनी आवाज उठाई और चिल्लाया, मेरे प्यारे छोटे बच्चे रोते नहीं हैं। मैं तुम्हें खाने के लिए एक बाघ को पकड़ लूँगा। आप अच्छा डिनर कर सकते हैं।

बाघ ने ये शब्द सुने। वह परेशान था। उसने खुद से कहा, गुफा से वह अजीब आवाज किसकी है? मुझे पकड़ने के लिए एक खतरनाक जानवर अंदर रह रहा है।

मैं मौत से बचने के लिए भाग जाऊंगा।  इतना कहते ही बाघ उतनी ही तेजी से वहां से भागने लगा।

एक सियार ने भागते हुए बाघ को देखा। गीदड़ ने पूछा, आप बड़े डर से क्यों भाग रहे हैं? बाघ ने कहा, मेरे दोस्त, मेरी गुफा में एक शक्तिशाली और भयंकर जानवर रहने के लिए आया है।

जवान बाघ को खाने के लिए रो रहे हैं। माँ वादा कर रही है। उनके लिए एक बाघ को पकड़ने के लिए। इसलिए, मैं बहुत डर से भाग रहा हूं।

चालाक सियार अब निश्चित था। बाघ एक कायर था। इसने बाघ से कहा। डरो नहीं। कोई भी जानवर बाघ की तुलना में उग्र या मजबूत नहीं है। हमें पता लगाने के लिए एक साथ चलते हैं।

लेकिन बाघ ने कहा, मैं एक मौका नहीं लेना चाहता। आप भाग सकते हैं। मुझे मरने के लिए अकेला छोड़ दिया जाएगा। इसलिए, मैं आपके साथ नहीं आऊंगा।

गीदड़ ने कहा, मुझ पर भरोसा रखो। आइए हम अपनी पूंछ को एक साथ मिलाएं। फिर मैं तुम्हें छोड़ नहीं पाऊंगा।  बाघ इस प्रस्ताव पर अनिच्छा से सहमत हो गया। सियार ने उनकी पूंछ गाँठ में बाँध ली। अब वे एक साथ गुफा की ओर चले।

हिरण ने सियार और बाघ को एक साथ आते देखा। उसने फिर से आवाज लगाई। वह गुफा के अंदर खड़े अपने बच्चों की ओर चिल्लाया, मेरे प्यारे बच्चों, मैंने अपने दोस्त, चतुर सियार से, हमारे लिए एक बाघ को पकड़ने के लिए अनुरोध किया था।

अब देखो गीदड़ ने हमारे लिए एक बाघ पकड़ लिया है। उन्होंने बाघ की पूंछ को अपनी पूंछ से बांध दिया है। यह बाघ को भागने से रोकना है। हमारे खाने के लिए जल्द ही आपके पास बाघ होगा।

बाघ ने यह सुना। वह चौंक गया। उसे अब यकीन था। सियार ने उसे धोखा दिया। इसलिए, बाघ ने अपनी गुफा के अंदर खड़े भयानक जानवर से बचने का फैसला किया।

उसने दौड़ना शुरू किया। वह सियार के बारे में भूल गया। उसने सियार को चट्टानों और कांटों पर घसीटा। पागल भागने में सियार दो चट्टानों के बीच फंस गया।

 बाघ अपनी सारी शक्ति के साथ खींच लिया। उसकी पूंछ कट गई। इस घटना में सियार मारा गया। पूंछ वाला बाघ जंगल के दूसरे हिस्से में भाग गया। हिरण और उसके युवा बाघ की गुफा से बाहर निकल गए। वे अपने झुंड में सुरक्षित रूप से शामिल हो गए।

खराब स्वभाव Panchtantra Ki Kahani In Hindi By Vishnu Sharma


एक बार एक छोटा लड़का था, जिसका स्वभाव बुरा था। उसके पिता ने उसे नाखूनों का एक थैला दिया और उससे कहा कि हर बार जब वह अपना आपा खो दे, तो उसे बाड़ के पीछे एक कील ठोकनी होगी।

पहले दिन, लड़के ने 37 नाखूनों को बाड़ में डाल दिया था। अगले कुछ हफ्तों में, जैसा कि उन्होंने अपने गुस्से को नियंत्रित करना सीख लिया, नाखूनों की संख्या प्रतिदिन धीरे-धीरे कम होती गई। उन्होंने पता लगाया कि बाड़ में उन नाखूनों को चलाने की तुलना में उनका गुस्सा पकड़ना आसान था।

अंत में, वह दिन आया जब लड़के ने अपना आपा नहीं खोया। उसने अपने पिता को इसके बारे में बताया और पिता ने सुझाव दिया कि लड़का अब प्रत्येक दिन एक नाखून निकालता है जिससे वह अपना आपा बना सके।

दिन बीत गए और लड़का आखिरकार अपने पिता को बताने में सक्षम हो गया कि सभी नाखून चले गए थे। पिता अपने बेटे को हाथ में लेकर उसे बाड़ तक ले गया।

उन्होंने कहा, आपने अच्छा किया है, मेरे बेटे, लेकिन बाड़ में छेद देखें। बाड़ कभी भी एक समान नहीं होगी। जब आप गुस्से में चीजें कहते हैं, तो वे इस तरह से एक निशान छोड़ देते हैं।

आप एक चाकू डाल सकते हैं। एक आदमी में और इसे बाहर खींचो। इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा कि आप कितनी बार कहते हैं कि मुझे क्षमा करें। घाव अभी भी है। एक मौखिक घाव एक भौतिक के रूप में बुरा है।