Monday, May 18, 2020

Nilavanti The Unknown Mystery 2 Horror Story In Hindi

Nilavanti The Unknown Mystery 2 Horror Story In Hindi
Nilavanti The Unknown Mystery 2 Horror Story In Hindi

Bhoot Ki Kahani, Horror Story In Hindi, Story Of Ghost In Hindi, Ghost Story In Hindi, The Ghost Story In Hindi, Ghost Story Hindi, Ghost Hindi Story, Ghost Storys In Hindi, 


Nilavanti The Unknown Mystery 2 Horror Story In Hindi

Yah shraap Nilavanti ne khud is granth ko diya tha mukhiya jee yah baat sunakar chaunk jaate hain aur kahate hain kya khud Nilavanti ne lekin kyon chalie sunate hain agalee kahaanee.

Nilavanti jo ek durlabh kism kee yakshinee thee. jo prthvee par phas gaee thee use apanee duniya mein jaane ka raasta khojana tha kaee saal maheene beet gae lekin use vo raasta nahin mila tha.

Raat bhar ghoom kar usane bahut saare mantr tantr jama kie the usaka upayog karake pashu pakshiyon ke roop mein jo divy aatma thee.

Unase vah baat karatee thee sirph Nilavanti hee aisee divy aatmaon ko pahachaan paatee thee yah sab shaktiyon ke lie usane bahut badee keemat chukaee thee.

Mukhiya jee shaayad hamaare aajoo-baajoo bhee aisee divy aatma jaroor hongee jo museebat mein hamen madad karatee hongee jee sahee kaha aapane.

Aise hee ek din Nilavanti ek titaharee se baat kar rahee thee jo ki ek divy aatma thee.

Titaharee ne use kaha neelavantee mai oopar prasann huee hoon tumhaara intajaar khatm ho gaya hai tumhen apanee duniya mein jaane ka raasta chaahie tha na.

Jee haan yahaan se thodee door ek gaanv hai jahaan ek bada sa baragad ka ped hai vahee tumhen tumhaare prashn ka uttar mil jaega aur nikal padatee hai.

Us gaanv kee or lekin Nilavanti sochatee hai main achaanak aise gaanv mein nahin ja sakatee kyonki use usake pitaajee kee baat yaad aatee hai.

Betee neela is duniya mein sabase bada neech insaan hai aaj tak mainne tumhen insaanon se door rakha kyonki inaka koee bharosa nahin hota apane phaayade ke lie kisee bhee had tak ja sakate hain ki tabhee

Nilavanti ko ek dhanik dikha apane bailagaadee mein bahut saara anaaj apane gaanv le ja raha tha shaayad vah dhanik kisee museebat mein tha.

Use Nilavanti door se dekh rahee thee Nilavanti ko laga kya main usakee madad kar sakatee hoon ki tabhee usakee najar bailagaadee mein rakhe hue tote ke pinjare par gaee.

Achaanak tote jor-jor se cheekhane laga sahaayata karo hamaaree sahaayata karo aur vah door se hee tote ko poochhatee hai kya hua.

Tumhen koee kasht nahin hamen bachao devee lagata hai ham par koee aapatti aane vaalee hai ki achaanak us dhanik par daakuo ka hamala hota hai

To dhanik kuchh tota aur bailagaadee ko chhodakar bhaagane lagata hai Nilavanti apane jaaduee mantron se un daakuon ko chooha bana detee hai aur tote kee jaan bacha letee hai.

Thodee door hee use dhanik behosh pada milata hai apane aayurved kee shiksha se use theek kar detee hai tota aabhaar ke taur par use kahata hai.

Agar tum is dhanik se shaadee kar letee ho to tum us gaanv mein pravesh kar sakatee ho jab dhanik aankhen kholata hai to apane saamane Nilavanti ko paata hai.

Use dekhate hee dhanik ko usase pyaar ho jaata hai vah Nilavanti ko kahata hai aap bahut sundar hai main aapaka roop dekhakar mohit hua hoon.

Kya aap mujhe apane pati ke roop mein sveekaar karogee Nilavanti sochatee hai yahee mauka hai is dhanik jariye main gaanv mein ja sakatee hoon.

Nilavanti use kahatee hai main tumase shaadee karoongee lekin meree kuchh sharte hain jo aapako maananee padegee pahalee shart hai ki main raat mein aapake saath nahin so paoongee aur doosaree ki main raat mein kahaan jaatee hoon yah jaanane kee koshish aap nahin karenge to hee main aapake saath shaadee karoongee.

Dhanik turant maan jaata hai aur Nilavanti ko ghar lekar jaata hai Nilavanti kee sundarata dekhakar har koee chauk jaata hai Nilavanti har roj kee tarah raat hone par uthatee hai

Aur nikalatee hai apanee duniya mein jaane ka raasta dhoondh aise hee kaee din beet jaate hain ek din Nilavanti apane pati ko dukhee dekhatee hai aur use usaka kaaran poochhatee hai to use dhanik bataata hai ki use apane vyaapaar mein bada nukasaan hua hai.

Nilavanti use bataatee hai aap chinta mat karo main kuchh karatee Nilavanti apane vidya ka istemaal karake nevale se gupt dhan ka pata lagaatee hai aur vah dhan dhanee ko de detee hai.

Phir aisa kaee baar hota rahata hai dhanik baar-baar laalach mein aakar dhan maangata hai aur Nilavanti use dhan de detee hai.

Phir ek raat Nilavanti ghar se nikalatee hai to gaanv ke log use dekh lete hain yah itanee raat gae yahaan kya kar rahee hai

Doosare din yah sab gaanv vaale dhanik ko bata dete hain ki Nilavanti ek chudail hai raat bhar ghoom ke bhoot pishaach on se milatee hai.

Agar aapane jald se jald is baare mein nahin socha to ek din vah ham sab ko kha jaenge dhanik gusse se laal hota hai use yakeen nahin hota ki Nilavanti aisa kar sakatee hai.

Vah kuchh nahin bolata bas raat ka intajaar karane lagata hai Nilavanti hamesha kee tarah raat mein jangal kee or nikalatee hai utane mein use ulloo dikhaee deta hai.

Vah use kahata hai Nilavanti aaj raat tumhen tumhaaree duniya mein jaane ka dvaar milega he divy aatma mujhe kya karana hoga.

Isake lie tumhen ek kaam karana padega aaj raat tumhen nadee ke kinaare jaana hoga vahaan ek laash nadee mein se bahate hue aaegee.

Us laash ke haath par ek jaaduee taabeej hoga use tumhen lena hai phir thodee der baad usee nadee se divy naav tumhaare paas aaegee.

Tumhen usake naavik ko baksheesh kee taur par vah jaaduee taabeej dena hai tum agar us naav mein baithakar nadee ke paar chalee gaee to tum apane duniya mein chalee jaogee.

Lekin dhyaan rahe yah divy dvaar chand ghanton ke lie khulata hai agar tum isamen asaphal rahee to tumhen phir se sab talaash karana padega.

Nilavanti nadee kee or badhatee hai aur laash ka intajaar karane lagatee hai is baar dhanik usaka peechha karata hai aur jhaadiyon mein chhup kar Nilavanti ko dekhata hai thodee der baad Nilavanti ko nadee mein vah laash dikhatee hai.

Nilavanti us laash ko nadee ke kinaare le jaatee hai aur usake haath ka taabeej nikaalane kee koshish karatee hai.

Lekin vah taabeej nahin nikalata isalie vah apane daanto se use nikaalane kee koshish karane lagatee hai ki tabhee kuchh gaanv vaale use dekh lete hain.

Aur unhen galataphahamee hotee hai ki Nilavanti vah laash kha rahee hai tabhee dhanik Nilavanti ke saamane aata hai aur achaanak ho apane asalee roop mein aa jaata hai.

Nilavanti ke haath ka taabeej chheen leta hai aur kahata hai ab mujhe tum vah granth de do nahin to vah taabeej main tumhen nahin doonga Nilavanti ko samajh aata hai ki yah sab Nilavanti ko phasaane ke lie dhanee kee ek chaal thee

Nahin main yah granth kisee galat haathon mein nahin padhane doongee paagal mat bano Nilavanti yahee aakharee mauka hai utane mein gaanv ke log vahaan aate hain aur kahate hain.

Maar do donon ko yah donon chudail aur pishaach hai Nilavanti vahaan se bhaag jaatee hai aur mantrik ko gaanv vaale maar dete hain Nilavanti ko samajh aa jaata hai.

Yah sab gupt dhan aur Nilavanti granth paane kee laalach kee vajah se hua hai Nilavanti ko gussa aata hai aur vah is granth ko saaph detee hai ki agar yah granth koee sirph laalach ke kaaran poora padega to usakee maut ho jaegee aur

Agar kisee ne yah granth padhakar aadha chhod diya to vah insaan paagal ho jaega aur Nilavanti vah granth vaheen chhod kar jangal mein nikal jaatee hai.

Shaayad Nilavanti aaj bhee apanee duniya mein jaane ka raasta dhoondhatee hogee bahut bura hua Nilavanti ke saath kya sach mein hamen vah granth dhoondhana chaahie.

Haan mukhiya jee agar vah granth kisee galat haathon mein pad gaya to anarth ho jaega shaayad vah granth pulis steshan mein hoga saboot ke taur par pulis ne vah apane paas rakha hoga.

Kya vah granth aap kisee bhee tarah le aa sakate hain? mukhiya soch mein pad jaata hai aur kisee tarah vah pulis se vah granth le aata hai.

Lekin sameer ke saamane vah shart rakhata hai isamen se aadha guptaadhan to mujhe doge to yah granth mein tumhen doonga.

Sameer chauk jaata hai aur ise us mukhiya kee niyat ka pata chal jaata hai sameer use javaab deta hai theek hai mukhiya jee vah granth aap apane paas rakhie aur vah vahaan se chala jaata hai.

2 din baad khabar aatee hai ki mukhiya ne aatmahatya kar lee hai sameer jaldee se vahaan jaakar vah granth jaldee se utha leta hai aur kahata hai.


Mujhe pata tha mukhiya jee aap ise jaroor padhenge aur laalach bahut buree bala hai aur vahee us gaanv mein vah us granth ko daphan kar deta hai aur apane ghar lautane lagata hai. yah kahaanee aapako achchhee lagee ho to hamen sabsakraib karen. Dhanyavaad.

Nilavanti The Unknown Mystery 2 Horror Story In Hindi


यह श्राप निलावंती ने खुद इस ग्रंथ को दिया था मुखिया जी यह बात सुनकर चौंक जाते हैं और कहते हैं क्या खुद निलावंती ने लेकिन क्यों चलिए सुनते हैं अगली कहानी।

निलावंती जो एक दुर्लभ किस्म की यक्षिणी थी। जो पृथ्वी पर फस गई थी उसे अपनी दुनिया में जाने का रास्ता खोजना था कई साल महीने बीत गए लेकिन उसे वो रास्ता नहीं मिला था।

रात भर घूम कर उसने बहुत सारे मंत्र तंत्र जमा किए थे उसका उपयोग करके पशु पक्षियों के रूप में जो दिव्य आत्मा थी।

उनसे वह बात करती थी सिर्फ निलावंती ही ऐसी दिव्य आत्माओं को पहचान पाती थी यह सब शक्तियों के लिए उसने बहुत बड़ी कीमत चुकाई थी।

मुखिया जी शायद हमारे आजू-बाजू भी ऐसी दिव्य आत्मा जरूर होंगी जो मुसीबत में हमें मदद करती होंगी जी सही कहा आपने।

ऐसे ही एक दिन निलावंती एक टिटहरी से बात कर रही थी जो कि एक दिव्य आत्मा थी।

टिटहरी ने उसे कहा नीलवंती मै ऊपर प्रसन्न हुई हूं तुम्हारा इंतजार खत्म हो गया है तुम्हें अपनी दुनिया में जाने का रास्ता चाहिए था ना।

जी हाँ यहाँ से थोड़ी दूर एक गांव है जहां एक बड़ा सा बरगद का पेड़ है वही तुम्हें तुम्हारे प्रश्न का उत्तर मिल जाएगा और निकल पड़ती है।

उस गांव की ओर लेकिन निलावंती सोचती है मैं अचानक ऐसे गांव में नहीं जा सकती क्योंकि उसे उसके पिताजी की बात याद आती है।

बेटी नीला इस दुनिया में सबसे बड़ा नीच इंसान है आज तक मैंने तुम्हें इंसानों से दूर रखा क्योंकि इनका कोई भरोसा नहीं होता अपने फायदे के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं कि तभी

निलावंती को एक धनिक दिखा अपने बैलगाड़ी में बहुत सारा अनाज अपने गांव ले जा रहा था शायद वह धनिक किसी मुसीबत में था।

उसे निलावंती दूर से देख रही थी निलावंती को लगा क्या मैं उसकी मदद कर सकती हूं कि तभी उसकी नजर बैलगाड़ी में रखे हुए तोते के पिंजरे पर गई।

अचानक तोते जोर-जोर से चीखने लगा सहायता करो हमारी सहायता करो और वह दूर से ही तोते को पूछती है क्या हुआ।

तुम्हें कोई कष्ट नहीं हमें बचाओ देवी लगता है हम पर कोई आपत्ति आने वाली है कि अचानक उस धनिक पर डाकुओ का हमला होता है

तो धनिक कुछ तोता और बैलगाड़ी को छोड़कर भागने लगता है निलावंती अपने जादुई मंत्रों से उन डाकुओं को चूहा बना देती है और तोते की जान बचा लेती है।

थोड़ी दूर ही उसे धनिक बेहोश पड़ा मिलता है अपने आयुर्वेद की शिक्षा से उसे ठीक कर देती है तोता आभार के तौर पर उसे कहता है।

अगर तुम इस धनिक से शादी कर लेती हो तो तुम उस गांव में प्रवेश कर सकती हो जब धनिक आंखें खोलता है तो अपने सामने निलावंती को पाता है।

उसे देखते ही धनिक को उससे प्यार हो जाता है वह निलावंती को कहता है आप बहुत सुंदर है मैं आपका रूप देखकर मोहित हुआ हूं।

क्या आप मुझे अपने पति के रूप में स्वीकार करोगी निलावंती सोचती है यही मौका है इस धनिक जरिये मैं गांव में जा सकती हूं।

निलावंती उसे कहती है मैं तुमसे शादी करूंगी लेकिन मेरी कुछ शर्ते हैं जो आपको माननी पड़ेगी पहली शर्त है कि मैं रात में आपके साथ नहीं सो पाऊंगी और दूसरी कि मैं रात में कहां जाती हूं यह जानने की कोशिश आप नहीं करेंगे तो ही मैं आपके साथ शादी करूंगी।

धनिक तुरंत मान जाता है और निलावंती को घर लेकर जाता है निलावंती की सुंदरता देखकर हर कोई चौक जाता है निलावंती हर रोज की तरह रात होने पर उठती है

और निकलती है अपनी दुनिया में जाने का रास्ता ढूंढ ऐसे ही कई दिन बीत जाते हैं एक दिन निलावंती अपने पति को दुखी देखती है और उसे उसका कारण पूछती है तो उसे धनिक बताता है कि उसे अपने व्यापार में बड़ा नुकसान हुआ है।

निलावंती उसे बताती है आप चिंता मत करो मैं कुछ करती निलावंती अपने विद्या का इस्तेमाल करके नेवले से गुप्त धन का पता लगाती है और वह धन धनी को दे देती है।

फिर ऐसा कई बार होता रहता है धनिक बार-बार लालच में आकर धन मांगता है और निलावंती उसे धन दे देती है।

फिर एक रात निलावंती घर से निकलती है तो गांव के लोग उसे देख लेते हैं यह इतनी रात गए यहां क्या कर रही है

दूसरे दिन यह सब गांव वाले धनिक को बता देते हैं कि निलावंती एक चुड़ैल है रात भर घूम के भूत पिशाच ओं से मिलती है।

अगर आपने जल्द से जल्द इस बारे में नहीं सोचा तो एक दिन वह हम सब को खा जाएंगे धनिक गुस्से से लाल होता है उसे यकीन नहीं होता कि निलावंती ऐसा कर सकती है।

वह कुछ नहीं बोलता बस रात का इंतजार करने लगता है निलावंती हमेशा की तरह रात में जंगल की ओर निकलती है उतने में उसे उल्लू दिखाई देता है।

वह उसे कहता है निलावंती आज रात तुम्हें तुम्हारी दुनिया में जाने का द्वार मिलेगा हे दिव्य आत्मा मुझे क्या करना होगा।

इसके लिए तुम्हें एक काम करना पड़ेगा आज रात तुम्हें नदी के किनारे जाना होगा वहां एक लाश नदी में से बहते हुए आएगी।

उस लाश के हाथ पर एक जादुई ताबीज होगा उसे तुम्हें लेना है फिर थोड़ी देर बाद उसी नदी से दिव्य नाव तुम्हारे पास आएगी।

तुम्हें उसके नाविक को बक्शीश की तौर पर वह जादुई ताबीज देना है तुम अगर उस नाव में बैठकर नदी के पार चली गई तो तुम अपने दुनिया में चली जाओगी।

लेकिन ध्यान रहे यह दिव्य द्वार चंद घंटों के लिए खुलता है अगर तुम इसमें असफल रही तो तुम्हें फिर से सब तलाश करना पड़ेगा।

निलावंती नदी की ओर बढ़ती है और लाश का इंतजार करने लगती है इस बार धनिक उसका पीछा करता है और झाड़ियों में छुप कर निलावंती को देखता है थोड़ी देर बाद निलावंती को नदी में वह लाश दिखती है।

निलावंती उस लाश को नदी के किनारे ले जाती है और उसके हाथ का ताबीज निकालने की कोशिश करती है।

लेकिन वह ताबीज नहीं निकलता इसलिए वह अपने दांतो से उसे निकालने की कोशिश करने लगती है कि तभी कुछ गांव वाले उसे देख लेते हैं।

और उन्हें गलतफहमी होती है कि निलावंती वह लाश खा रही है तभी धनिक निलावंती के सामने आता है और अचानक हो अपने असली रूप में आ जाता है।

निलावंती के हाथ का ताबीज छीन लेता है और कहता है अब मुझे तुम वह ग्रंथ दे दो नहीं तो वह ताबीज मैं तुम्हें नहीं दूंगा निलावंती को समझ आता है कि यह सब निलावंती को फसाने के लिए धनी की एक चाल थी

नहीं मैं यह ग्रंथ किसी गलत हाथों में नहीं पढ़ने दूंगी पागल मत बनो निलावंती यही आखरी मौका है उतने में गांव के लोग वहां आते हैं और कहते हैं।

मार दो दोनों को यह दोनों चुड़ैल और पिशाच है निलावंती वहां से भाग जाती है और मंत्रिक को गांव वाले मार देते हैं निलावंती को समझ आ जाता है।

यह सब गुप्त धन और निलावंती ग्रंथ पाने की लालच की वजह से हुआ है निलावंती को गुस्सा आता है और वह इस ग्रंथ को साफ देती है कि अगर यह ग्रंथ कोई सिर्फ लालच के कारण पूरा पड़ेगा तो उसकी मौत हो जाएगी और

अगर किसी ने यह ग्रंथ पढ़कर आधा छोड़ दिया तो वह इंसान पागल हो जाएगा और निलावंती वह ग्रंथ वहीं छोड़ कर जंगल में निकल जाती है।

शायद निलावंती आज भी अपनी दुनिया में जाने का रास्ता ढूंढती होगी बहुत बुरा हुआ निलावंती के साथ क्या सच में हमें वह ग्रंथ ढूंढना चाहिए।

हाँ मुखिया जी अगर वह ग्रंथ किसी गलत हाथों में पड़ गया तो अनर्थ हो जाएगा शायद वह ग्रंथ पुलिस स्टेशन में होगा सबूत के तौर पर पुलिस ने वह अपने पास रखा होगा।

क्या वह ग्रंथ आप किसी भी तरह ले आ सकते हैं? मुखिया सोच में पड़ जाता है और किसी तरह वह पुलिस से वह ग्रंथ ले आता है।

लेकिन समीर के सामने वह शर्त रखता है इसमें से आधा गुप्ताधन तो मुझे दोगे तो यह ग्रंथ में तुम्हें दूंगा।

समीर चौक जाता है और इसे उस मुखिया की नियत का पता चल जाता है समीर उसे जवाब देता है ठीक है मुखिया जी वह ग्रंथ आप अपने पास रखिए और वह वहां से चला जाता है।

2 दिन बाद खबर आती है कि मुखिया ने आत्महत्या कर ली है समीर जल्दी से वहां जाकर वह ग्रंथ जल्दी से उठा लेता है और कहता है।

मुझे पता था मुखिया जी आप इसे जरूर पढ़ेंगे और लालच बहुत बुरी बला है और वही उस गांव में वह उस ग्रंथ को दफन कर देता है और अपने घर लौटने लगता है। यह कहानी आपको अच्छी लगी हो तो हमें सब्सक्राइब करें। धन्यवाद

Bhoot Ki Kahani, Horror Story In Hindi, Story Of Ghost In Hindi, Ghost Story In Hindi, The Ghost Story In Hindi, Ghost Story Hindi, Ghost Hindi Story, Ghost Storys In Hindi, 


Ghost Stories In Hindi, Stories Of Ghost In Hindi, Ghost Stories Hindi, Stories Ghost In Hindi, Bhutha Kahani, Bhutiya Kahani, Rakshas, Bhutiya Stories, 



Ghost Real Story In Hindi, Ghost Stories In Hindi Real, Ghost Stories Real In Hindi, Ghost Story In Hindi Real, Ghost Story Real In Hindi, 



Hindi Real Ghost Stories, Real Ghost Stories Hindi, Real Ghost Stories In Hindi, Real Ghost Story Hindi, Real Ghost Story In Hindi, 



Real Stories Of Ghost In Hindi, Real Story Of Ghost In Hindi, Darawani Kahaniya, Bhoot In Real, Hindi Horror Stories Real, Hindi Horror Story Real, 



Hindi Real Horror Story, Horror Real Stories In Hindi, Horror Stories Real In Hindi, Horror Story Real In Hindi, Real Horror Stories In Hindi, 



Real Horror Story Hindi, Real Horror Story In Hindi, Real Story Horror In Hindi, Marne Ke Baad Kya Hota H, Horror Kahaniya, Bhoot Stories Hindi, Bhoot Stories In Hindi, Hindi Bhoot Story.