Monday, May 25, 2020

तूफानी रात Horror Hindi Kahani Bhootiya Kahani In Hindi

तूफानी रात Horror Hindi Kahani Bhootiya Kahani In Hindi
तूफानी रात Horror Hindi Kahani Bhootiya Kahani In Hindi

तूफानी रात Horror Hindi Kahani Bhootiya Kahani In Hindi bhutiya fairy tales in hindi, cartoon wali horror story, horror fairy tales in hindi. koo koo tv hindi horror, bhutiya cartoon, bhutiya stories, bhoot wale cartoons, bhutiya aeroplane.

तूफानी रात Horror Hindi Kahani Bhootiya Kahani In Hindi

Aaj jab main us din ko yaad karata hoon too meree rooh kaamp uthatee hai samajh nahin aata ki jo bhee mainne dekha kya vah sach tha ya phir koee bhram kya aap bhoot-pret par vishvaas rakhate hain.

Agar 10 saal pahale yahee savaal aap usase to mera javaab na hota magar us raat mai apanee dost kee shaadee ko atend karane gaanv ja raha tha.

Bas kandaktar ko jab mainne apane gaanv ka naam bataaya vo thoda chauk sa gaya. Aur meree taraph ajeeb najaron se dekhane laga.

Usane mujhase kaha ki yah gaadee us raaste nahin jaatee kyonki baarish kee vajah se vo raasta band ho chuka hai.

Aur agale stop par utar ki mujhe paidal jaana padega. Mere paas aur koee raasta nahin tha so mainne tikat le liya. Raasta badaahee lamba tha. Main thodee der ke lie so gaya.

Lagabhag raat ke 10:00 baje gaadee us stop par pahunchee. Aur main bas se utarane laga lekin tabhee bas kandaktar ne mujhe roka vah mujhe vahaan par na utarane kee vinatee karane laga usake kahe anusaar vah raasta bada hee nirjan tha.

Lekin pahalee mujhe bahut der ho chukee thee isalie kandaktar ko dhanyavaad dete hue main bas se neeche utar gaya.

Mainne mud kar dekha to kandaktar abhee bhee meree taraph dekh raha tha maano jaise use meree badee chinta ho rahee thee.

Bas nikal gaee aur us sunasaan raaste mein akela rah gaya main. Bas ke jaane ke baad vo raasta aur bhee sunasaan lagane laga.

Andhera kaaphee ghana tha aur mere paas torch bhee nahin thee to mainne apane mobail kee lait hona aur jangal ke raaste kee or badh gaya main thodee door chala tha ki achaanak baarish shuroo ho gaee.

Mainne apana chhaata nikaala aur mobail kee dhundhalee see roshanee mein aage badhane laga. Lekin achaanak mere mobail kee torch band hone lagee.

Mera mobail svich oph ho gaya rah-rahakar mujhe kandaktar kee baaten yaad aa rahee thee. Kaash mainne usakee baat maan lee hotee. Main apane aap ko kosane laga.

Lekin mere paas koee chaara nahin tha mainne himmat baandhee aur aage badhane laga. Tabhee kisee ladakee kee aavaaj mere kaanon mein aaee.

Kya gaanv kee taraph ja rahe hain. Vah ladakee bahut hee sundar thee. Usake baajoo mein ek bada sa aadamee haath mein laalaten lie khada tha.

Mainne usakee aankhon mein dekha aur main ekadam saham sa gaya. Usakee aankhen mujhe badee ajeeb dhang ghoor rahee thee.

Chalo baaboojee saath mein chalate hain. Bina kuchh kahe main unake saath chalen laga. Mujhe ek baat badee ajeeb lagee itanee baarish ho rahee thee. Lekin ek unake paas chhaata nahin tha.

Us boodhe aadamee ne apane poore badan par ek kambal lapet liya tha aur vah ladakee to baarish mein pooree bheeg chukee thee mainne usakee taraph dekha sach mein bahut hee sundar thee.

Jee aap chaahe to mera chhaata le leejie. Mainne us ladakee se gujaarish kee. Jee nahin usakee koee jaroorat nahin

Aur itana kahakar vah mere paas aaee aur mere saath ek hee chhaate mein chalane lagee. Sach kahie to mujhe yah raat badee hee achchhee lag rahee thee.

Lekin jaise hee chhaata pakadane ke lie usane mere haathon ko chhua main chauk gaya. Kya hua usane mujhase poochha jee-jee vah aapake.. aapake... aapake... haath bahut hee thande the ladakee muskuraee.

Jee haan vah aaj baarish kuchh jyaada hee hai na isalie. Us khoobasoorat ladakee ke saath ek heechhaate mein chalate hue main romaanchit ho raha tha. Ab gaanv najadeek aa gaya tha.

Mujhe door se gharon mein jalate timatimaate hue diyo ki roshanee najar aa rahee thee. Mai us raaste se aage badha. Lekin mainne dekha ki vah ladakee aur o boodha aadamee ekadam se ruk gae.

Kya hua aap ruke kyon? mainne use poochha. Aap gaanv mein nahin aane vaale. Jee ham gaavan nahin aate hamaara loj hai yahaan par. kabhee vakt mile to aaiega jaroor.

Us ladakee ke haathon mein chhaata deke main aage badha achaanak mujhe yaad aaya ki mainne us ladakee ka naam to poochha hee nahin. Apane aap ko kosata hua. Main peechhe muda.

Aur mere paanv tale se jaise jameen hee khisak gaee. Vahaan par koee bhee nahin tha main aankhen phaad phaad kar dekhane kee koshish karane laga.

Achaanak phir se bijalee kadakee aur phir jo mainne dekha aaj tak use bhula nahin paaya hoon. Unakee aankhen uf... usamen to jaise jaan hee nahin thee lekin phir bhee vo mujhe hee ghoor rahee thee.

Chehara saphed maano jaise unaka khoon hee sookh chuka tha. Vo meree taraph dekh kar muskuraee usake saare daant sad chuke the.

Hamaara loj hai yahaan par. Kabhee vakt mile to aaiega jaroor main aapakee raah dekhoongee. Usakee aavaaj usakee aavaaj maano kisee kabr se aa rahee thee. Itanee bhayaanak thee mere haath paanv kaampane lage.

Mujhe us kandaktar kee bataee huee baat yaad aa gaee usane mujhase kaha tha ki raaste mein agar koee pukaare to rukega mat itanee baarish mein bhee mujhe paseena aane laga.

Aur phir apanee jaan hathelee par rakhakar main vahaan se bhaag nikala. Pata nahin main kitanee der bhaag raha tha. Gaanv mein pahunchate hee main behosh ho gaya. Usake baad kya hua.

Mujhe nahin pata lekin 2 din baad mujhe hosh aaya. Tab mere dost ne mujhe bataaya ki pichhale 2 din se mujhe tej bukhaar tha aur main apanee behoshee mein ajeeb ajeeb baaten badabada raha tha.

Mainne apane dost ko us raat kya hua vah sab pata hai jise sunakar mera dost bhee ghabara gaya usane mujhase us gaanv mein ghatee huee ek hakeekat bataen jise sunakar mere rongate khade ho gae hain vah kahaanee kuchh is prakaar thee.

Usee gaanv mein loj tha jise ek boodha aadamee usakee naatin donon milakar chalaaya karate the kuchh saal pahale shahar se koee ladaka un donon kee loj par rahane ke lie aaya tha.

Vo donon ek-doosare se pyaar karane lage. Ladaka ne ladakee se shaadee ka vaada kiya aur phir vah shahar chala gaya vah ladakee usakee lautane kee intajaar kee raah dekhane lagee.

Magar vo ladaka laut kar kabhee nahin aaya gaanv ke log ab us ladakee ka majaak udaane lage use tang karane lage. Unaka loj band ho gaya. Vah boodha aadamee aur ladakee donon akele pad gae.

Ladakee ka haal to bahut hee bura tha vah paagalon jaise bartaav karane lagee thee. Us boodha aadamee se apanee naatin ka yah haal bardaasht nahin hua. Ek raat ko donon jangal kee taraph nikal pade.

Aur ek ped se latak kar un donon ne aatmahatya kar lee. Us toophaanee raat mein main jis ladakee aur usake boodha aadamee se mila yah vahee log the.

Aaj bhee jo mujhe vah toophaanee raat yaad aatee hai to main chain se nahin so paata. Ab aap hee bataie us raat jo bhee mainne dekha ya phir mahasoos kiya.


Vah sach tha ya phir mera bhram. Aapako kya lagata hai kya bhoot pret sach mein hote hain.


तूफानी रात Horror Hindi Kahani Bhootiya Kahani In Hindi



आज जब मैं उस दिन को याद करता हूं तू मेरी रूह कांप उठती है समझ नहीं आता कि जो भी मैंने देखा क्या वह सच था या फिर कोई भ्रम क्या आप भूत-प्रेत पर विश्वास रखते हैं।

अगर 10 साल पहले यही सवाल आप उससे तो मेरा जवाब ना होता मगर उस रात मै अपनी दोस्त की शादी को अटेंड करने गांव जा रहा था।

बस कंडक्टर को जब मैंने अपने गांव का नाम बताया वो थोड़ा चौक सा गया। और मेरी तरफ अजीब नजरों से देखने लगा।

उसने मुझसे कहा कि यह गाड़ी उस रास्ते नहीं जाती क्योंकि बारिश की वजह से वो रास्ता बंद हो चुका है।

और अगले स्टॉप पर उतर कि मुझे पैदल जाना पड़ेगा। मेरे पास और कोई रास्ता नहीं था सो मैंने टिकट ले लिया। रास्ता बड़ाही लंबा था। मैं थोड़ी देर के लिए सो गया।

लगभग रात के 10:00 बजे गाड़ी उस स्टॉप पर पहुंची। और मैं बस से उतरने लगा लेकिन तभी बस कंडक्टर ने मुझे रोका वह मुझे वहां पर ना उतरने की विनती करने लगा उसके कहे अनुसार वह रास्ता बड़ा ही निर्जन था।

लेकिन पहली मुझे बहुत देर हो चुकी थी इसलिए कंडक्टर को धन्यवाद देते हुए मैं बस से नीचे उतर गया।

मैंने मुड़ कर देखा तो कंडक्टर अभी भी मेरी तरफ देख रहा था मानो जैसे उसे मेरी बड़ी चिंता हो रही थी।

बस निकल गई और उस सुनसान रास्ते में अकेला रह गया मैं। बस के जाने के बाद वो रास्ता और भी सुनसान लगने लगा।

अंधेरा काफी घना था और मेरे पास टॉर्च भी नहीं थी तो मैंने अपने मोबाइल की लाइट होना और जंगल के रास्ते की ओर बढ़ गया मैं थोड़ी दूर चला था कि अचानक बारिश शुरू हो गई।

मैंने अपना छाता निकाला और मोबाइल की धुंधली सी रोशनी में आगे बढ़ने लगा। लेकिन अचानक मेरे मोबाइल की टॉर्च बंद होने लगी।

मेरा मोबाइल स्विच ऑफ हो गया रह-रहकर मुझे कंडक्टर की बातें याद रही थी। काश मैंने उसकी बात मान ली होती। मैं अपने आप को कोसने लगा।

लेकिन मेरे पास कोई चारा नहीं था मैंने हिम्मत बांधी और आगे बढ़ने लगा। तभी किसी लड़की की आवाज मेरे कानों में आई।

क्या गांव की तरफ जा रहे हैं। वह लड़की बहुत ही सुंदर थी। उसके बाजू में एक बड़ा सा आदमी हाथ में
लालटेन लिए खड़ा था।

मैंने उसकी आंखों में देखा और मैं एकदम सहम सा गया। उसकी आंखें मुझे बड़ी अजीब ढंग घूर रही थी।

चलो बाबूजी साथ में चलते हैं। बिना कुछ कहे मैं उनके साथ चलें लगा। मुझे एक बात बड़ी अजीब लगी इतनी बारिश हो रही थी। लेकिन एक उनके पास छाता नहीं था।

उस बूढ़े आदमी ने अपने पूरे बदन पर एक कंबल लपेट लिया था और वह लड़की तो बारिश में पूरी भीग चुकी थी मैंने उसकी तरफ देखा सच में बहुत ही सुंदर थी।

जी आप चाहे तो मेरा छाता ले लीजिए। मैंने उस लड़की से गुजारिश की। जी नहीं उसकी कोई जरूरत नहीं

और इतना कहकर वह मेरे पास आई और मेरे साथ एक ही छाते में चलने लगी। सच कहिए तो मुझे यह रात बड़ी ही अच्छी लग रही थी।

लेकिन जैसे ही छाता पकड़ने के लिए उसने मेरे हाथों को छुआ मैं चौक गया। क्या हुआ उसने मुझसे पूछा जी-जी वह आपके।। आपके।।। आपके।।। हाथ बहुत ही ठंडे थे लड़की मुस्कुराई।

जी हां वह आज बारिश कुछ ज्यादा ही है ना इसलिए। उस खूबसूरत लड़की के साथ एक हीछाते में चलते हुए मैं रोमांचित हो रहा था। अब गांव नजदीक गया था।


मुझे दूर से घरों में जलते टिमटिमाते हुए दियो कि रोशनी नजर आ रही थी। मै उस रास्ते से आगे बढ़ा। लेकिन मैंने देखा कि वह लड़की और ओ बूढा आदमी एकदम से रुक गए।

क्या हुआ आप रुके क्यों? मैंने उसे पूछा। आप गांव में नहीं आने वाले। जी हम गावं नहीं आते हमारा लॉज है यहां पर। कभी वक्त मिले तो आइएगा जरूर।

उस लड़की के हाथों में छाता देके मैं आगे बढ़ा अचानक मुझे याद आया कि मैंने उस लड़की का नाम तो पूछा ही नहीं। अपने आप को कोसता हुआ। मैं पीछे मुड़ा

और मेरे पांव तले से जैसे जमीन ही खिसक गई। वहां पर कोई भी नहीं था मैं आंखें फाड़ फाड़ कर देखने की कोशिश करने लगा।

अचानक फिर से बिजली कड़की और फिर जो मैंने देखा आज तक उसे भुला नहीं पाया हूं। उनकी आंखें उफ़।।। उसमें तो जैसे जान ही नहीं थी लेकिन फिर भी वो मुझे ही घूर रही थी।

चेहरा सफेद मानो जैसे उनका खून ही सूख चुका था। वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुराई उसके सारे दांत सड़ चुके थे।

हमारा लॉज है यहां पर। कभी वक्त मिले तो आइएगा जरूर मैं आपकी राह देखूंगी। उसकी आवाज उसकी आवाज मानो किसी कब्र से आ रही थी। इतनी भयानक थी मेरे हाथ पांव कांपने लगे।

मुझे उस कंडक्टर की बताई हुई बात याद गई उसने मुझसे कहा था कि रास्ते में अगर कोई पुकारे तो रुकेगा मत इतनी बारिश में भी मुझे पसीना आने लगा।

और फिर अपनी जान हथेली पर रखकर मैं वहां से भाग निकला। पता नहीं मैं कितनी देर भाग रहा था। गांव में पहुंचते ही मैं बेहोश हो गया। उसके बाद क्या हुआ।

मुझे नहीं पता लेकिन 2 दिन बाद मुझे होश आया। तब मेरे दोस्त ने मुझे बताया कि पिछले 2 दिन से मुझे तेज बुखार था और मैं अपनी बेहोशी में अजीब अजीब बातें बड़बड़ा रहा था।

मैंने अपने दोस्त को उस रात क्या हुआ वह सब पता है जिसे सुनकर मेरा दोस्त भी घबरा गया उसने मुझसे उस गांव में घटी हुई एक हकीकत बताएं जिसे सुनकर मेरे रोंगटे खड़े हो गए हैं वह कहानी कुछ इस प्रकार थी

उसी गांव में लॉज था जिसे एक बूढ़ा आदमी उसकी नातिन दोनों मिलकर चलाया करते थे कुछ साल पहले शहर से कोई लड़का उन दोनों की लॉज पर रहने के लिए आया था।

वो दोनों एक-दूसरे से प्यार करने लगे। लड़का ने लड़की से शादी का वादा किया और फिर वह शहर चला गया वह लड़की उसकी लौटने की इंतजार की राह देखने लगी।

मगर वो लड़का लौट कर कभी नहीं आया गांव के लोग अब उस लड़की का मजाक उड़ाने लगे उसे तंग करने लगे। उनका लॉज बंद हो गया। वह बूढ़ा आदमी और लड़की दोनों अकेले पड़ गए।

लड़की का हाल तो बहुत ही बुरा था वह पागलों जैसे बर्ताव करने लगी थी। उस बूढ़ा आदमी से अपनी नातिन का यह हाल बर्दाश्त नहीं हुआ। एक रात को दोनों जंगल की तरफ निकल पड़े।

और एक पेड़ से लटक कर उन दोनों ने आत्महत्या कर ली। उस तूफानी रात में मैं जिस लड़की और उसके बूढ़ा आदमी से मिला यह वही लोग थे।

आज भी जो मुझे वह तूफानी रात याद आती है तो मैं चैन से नहीं सो पाता। अब आप ही बताइए उस रात जो भी मैंने देखा या फिर महसूस किया। वह सच था या फिर मेरा भ्रम। आपको क्या लगता है क्या भूत प्रेत सच में होते हैं।

तूफानी रात Horror Hindi Kahani Bhootiya Kahani In Hindi bhutiya fairy tales in hindi, cartoon wali horror story, horror fairy tales in hindi. koo koo tv hindi horror, bhutiya cartoon, bhutiya stories, bhoot wale cartoons, bhutiya aeroplane.