Sunday, May 10, 2020

अति लोभ की सज़ा Best Hindi Story For Kids New Hindi Story

अति लोभ की सज़ा Best Hindi Story For Kids New Hindi Story
अति लोभ की सज़ा Best Hindi Story For Kids New Hindi Story

अति लोभ की सज़ा Best Hindi Story For Kids New Hindi Story Hindi Story Book अति लोभ की सज़ा Best Hindi Story For Kids New Hindi Story.अति लोभ की सज़ा Best Hindi Story For Kids New Hindi Story.

अति लोभ की सज़ा  Hindi Kahaniya For Kids | Stories For Kids | Moral Stories For Kids

Ek bada jangal tha. Jangal mein harebhare ped the. Un pedon par bahut saare kabootar rahate the. Ve har samay pedon par khelate rahate. 

Ve jo bhee phal chaahate the, kha lete. Yah unakee dinacharya thee. Ek din, kabootaron ko pakadane ke lie ek chidiyaaghar jangal mein aaya. 

Usane ek jagah jaal bichha diya, jise usane phit dekha. Usane us kshetr mein anaaj phailaaya. Kabootar daanon ke kaaran phans gae. 

Ve un anaajon ko khaane lage. Isase pahale ki ve mahasoos kar paate ki ve phans gae hain chidiya chhupaane se chhip gaee. 

Vah jaal ke saath kabootaron ko le gaya. Agale din bhee vahee hua. Kabootar jaal mein phans jaate. Pakshee paalak roj kabootaron ko pakadega. 

To kabootaron ne khud ko jaal se bachaane ke lie ek baithak bulaee. Agar paksheepaal aisa roj karata hai .. Ham sab pakade jaenge. 

Kauve hamaare ghonsale mein bas jaenge. Chup! Kisee ko bhee jaal mein nahin phansana chaahie. Lekin ham yah pata nahin laga sakate hain ki jaal bichhaaya gaya hai. 

Main keval anaaj dekh sakata hoon. Ye sahee hai. Ham is tarah se anaaj nahin rakh paenge. Chalie usake lie ek trik lekar aate hain. 

Ham bardakaichar ko bahut achchhee tarah se jaanate hain. Agar koee use jangal mein dekhe use gaana shuroo karana chaahie. 

Khabar ko sabake saamane phailaaya. Vah ek achchha vichaar hai. Yah kaam karega. Taaki sabhee ko pata chal jae ki vah kahaan jaal bichha raha hai. 

Kisee ko bhee us jagah par nahin jaana chaahie. Kabootaron kee sabha ke baad agale din bardakaichar jangal mein ghus gaya. 

Aur kabootar gaane lage. Khabaradaar, bardakaichar yahaan hai. Khabaradaar. Anaaj dekhakar laalachee mat bano. Apana jeevan mat khoo. 

Kabootar mujhe dekhakar ro rahe hain. Bardakaichar samajh gaya. Lekin phir bhee usane jaal bichhaaya. Aur anaaj bhee phenk diya. 

Aur ek ped ke peechhe chhip gaya. Dopahar beet gaee aur shaam ho gaee, lekin koee kabootar vahaan nahin pahuncha. 

Bardakaichar ne mahasoos kiya ki kabootaron ko usake jaal ke baare mein pata tha. To usane jangal mein aana band kar diya. 

Kabootar pahale kee tarah sukh se rahate the. Ek hee chidiya kaee maheenon baad jangal mein aaee. Ek bujurg kabootar bahut chaturaee se gaana shuroo kiya. 

Khabaradaar, bardakaichar yahaan hai. Khabaradaar. Anaaj ke lie laalachee mat bano. Apana jeevan mat khoo. Doosare kabootar bhee gaane lage. 

Anaaj ke lie laalachee mat bano. Apana jeevan mat khoo. Khabaradaar, bardakaichar yahaan hai. Kabootar mujhe dekhakar chilla rahe hain. 

Bardakaichar ne mahasoos kiya ki. Khabaradaar, bardakaichar yahaan hai. Khabaradaar. Khabaradaar, bardakaichar yahaan hai. 

Lekin phir bhee usane apana jaal bichhaaya. Aur vah ek ped ke peechhe chhip gaya. Kabootar abhee bhee chahak rahe the. 

Kuchh samay baad, ek kabootar ko laga jaise anaaj ho. Yah anaaj kee or ud gaya. Doosare kabootar us par chillaane lage. Nahin! Nahin! Mat jao. 

Yah vahaan khataranaak hai. Ruken! Ruken! Khabaradaar. Yah vahaan khataranaak hai. Lekin kabootar ne unakee baat nahin maanee. 

Vah jaal ke oopar phenke hue daane rakhane laga. Pakshee ko jaal mein phansa dekhakar chidiya vahaan pahunch gaee. 

Aur pakshee ke saath chhod diya. Phanse hue kabootar ne ek gaana gaaya kyonki vah door le jaaya gaya tha. Khabaradaar. Khabaradaar. 

Bardachaikar aane par saavadhaan rahen. Meree tarah mat phanso. Apana jeevan mat khona. Saavadhaan rahen. 

Apana jeevan mat khona. Kahaanee ka naitik hai: laalach ke gambheer parinaam hote hain.

 
बुधु सारस | best hindi story for kids new hindi story | hindi story


Tum sab aa gae? Haan, ham sab yahaan hain. Apanee kitee se kahaaniyaan nikaalo aur hamen kahaaniyaan sunao. 

Kaana maama ke paas aapako pesh karane ke lie unakee kahaaniyon ke alaava kuchh bhee nahin hai. Meree baat suno. Ek baar kee baat hai ek raaja tha .. 

Na chaacha, na raajaon aur raakshason kee kahaaniyaan. Kyon? Kya hua? Kya aap jaanate hain ki titalee jaanavaron aur pakshiyon ke kaee bhandaar jaanata hai? 

Hamen aaj pakshiyon aur jaanavaron kee kahaaniyaan sunaen. Theek hai. Main aapako aisee kahaaniyaan sunaata hoon. Lekin in kahaaniyon ko kabhee na bhoolen. 

Meree baat suno. Ek boodha bagula tha. Usakee drshti kharaab thee. Bhookhe rahane ne use kamajor bana diya tha. Ek din usane ek ped par chadhakar udaan bharee. 

Ped mein kaee pakshee rahate the. Ve sabhee puraane bagule ke aasapaas ikattha ho gae. Aur tab dekho kaise bagula din ke samay mein bhee darjan bhar hai. 

Haan tum sahee ho. Vah peela dikhata hai. Aisa lagata hai ki unhonne kaee dinon tak khaana nahin khaaya. Aaie usase poochhen ki vah is vikat sthiti mein kyon hai. 

Haan tum sahee ho. He bagule! He bagule! Bagula, tum kahaan se aae ho? Door desh mein ek ped se. Aap apanee janmabhoomi chhodakar yahaan kyon aae? 

Yah ek dukhad kahaanee hai. Kya? Apanee dukh bharee kahaanee hamaare saath saajha karen. Bhaiyon, main vrddh ho chuka hoon. 

Mere pankh majaboot nahin hain. Meree drshti kharaab hai. Jahaan main rahata tha vahaan kaee yuva bagule the. Unhonne kabhee mera sammaan nahin kiya. 

Ve mujhe khaane se vanchit karane ke lie apanee shaareerik shakti ka upayog karenge. Mainne dinon tak bhookhe rahakar apanee saaree taakat kho dee. 

Mujhe bahut dukh hua ki main apana ghar chhodakar yahaan aa gaya. Mujhe laga ki mere pankh mujhe jahaan bhee le jaenge, main vahaan jaoonga. 

Lekin, main kaaphee majaboot nahin hoon. Main kuchh der tak udane ke baad thak gaya aur aapakee shaakhaon mein sharan lee. Are nahin! Vah ek dukhee aatma hai. 

Ham sab ek din boodhe ho jaenge. Theek hai, bagula. Aapako kaheen nahin jaana padega. Yahaan ruko. Ham aapake lie khaana laenge lekin hamaaree ek shart hai. 

Krpaya mujhe apane niyam aur shart batao. Chaaron or ek sharaaratee billee hai. Ham hamesha usase darate hain. 

Billee laalachee hai aur hamaare bachchon ko khaana chaahatee hai. Isalie, jab ham bhojan kee talaash mein baahar jaate hain, to ham kabhee bhee shaant nahin hote hain. 

Aap din ke samay hamaare bachchon kee dekhabhaal karenge. Shaam ko ghar lautane par ham aapako bhojan denge. 

Vaah! Yah ek shaanadaar prastaav hai. Main baithakar bhojan praapt kar sakata hoon. Tathaastu! Tathaastu! Us din se pakshee bina kisee chinta ke bhojan kee talaash mein nikal jaate the. 

Boodha bagula apane bachchon par nazar rakhata tha. Jab shaam ko pakshee ghar lautate the, to bagula bhojan karata tha. 

Is vyavastha ne unake lie dinon tak achchha kaam kiya. Par ek din who? Kaun hai vahaan? Daro mat, bagula. Mai ek billee hoon. 

Who? Oh! To, tum billee ho. Pakshiyon ne mujhe tumhaare baare mein bataaya. Aap unake bachchon ko khaana chaahate hain. 

Hai na? Lekin, jab tak main jeevit hoon main aapako saphal nahin hone doonga. Saavadhaan rahen! Yadi aap aage badhate hain to main aapako chonch maaroonga. 

Are nahin! Kya kah rahe ho bhaee? Main ab jeevit praaniyon ko nahin maarata. Pakshiyon ne mere baare mein jo bhee kaha vah mera ateet hai. 

Mainne sabhee shaatiron ko chhod diya hai. Main ab ek dharmee billee hoon. Mere paas yahaan aane ke kuchh aur kaaran hain. Kya kaaran hai? 

Mainne suna hai ki tum bahut dhaarmik aur dayaalu ho. Aap shishuon kee dekhabhaal karate hain aur badale mein ve aapako bhojan dete hain. 

Mainne ise apanee aankhon se dekha hai. Main aapako kuchh achchhee salaah dene ke lie yahaan aaya hoon. 

Main chaahata hoon ki aap mujhe bataen ki main kaise dhaarmik jeevan jee sakata hoon. Bagula bhadak gaya tha. Use garv mahasoos hua .. 

Theek hai. Theek hai. Yahaan aao. Mujhe aapake saath kuchh achchhee salaah saajha karen. Kuchh samay tak baat karane ke baad boodha bagula hamesha kee tarah door chala gaya. 

Usake baad mujhe lagata hai ki bagula thaka hua hai aur darjanon door hai. Yah avasar hai. Main jaoonga aur apana kaam karoonga. 

Billee ne jitane bachche khae aur phir gaayab ho gae. Bagula darjanon door tha aur yah bhee mahasoos nahin kiya ki kya hua. 

Jab shaam ko panchhee laute .. Ve apane bachchon ko nahin mila. Are nahin! Hamaare bachchon ko kisane khaaya? Agar yah pahale hua hota to yah billee hotee. 

Lekin puraane bagule ke yahaan aane ke baad billee ko idharudhar nahin dekha gaya. Hamaare bachchon ko kaun kha sakata hai? Keval ek hee vyakti hai jo aisa kar sakata hai. 

Haan tum sahee ho. Yah koee aur nahin balki boodha bagula hai jo unhen kha gaya. Unhonne hamaaree anupasthiti mein hamaare bachchon ko khaaya. 

Haan tum sahee ho. Chalie use sabak sikhaate hain. Hamen use dandit karana chaahie. Haan chalate hain.

अति लोभ की सज़ा  Hindi Kahaniya For Kids | Stories For Kids | Moral Stories For Kids

एक बड़ा जंगल था। जंगल में हरेभरे पेड़ थे। उन पेड़ों पर बहुत सारे कबूतर रहते थे। वे हर समय पेड़ों पर खेलते रहते। वे जो भी फल चाहते थे, खा लेते। यह उनकी दिनचर्या थी। 

एक दिन, कबूतरों को पकड़ने के लिए एक चिडियाघर जंगल में आया। उसने एक जगह जाल बिछा दिया, जिसे उसने फिट देखा। उसने उस क्षेत्र में अनाज फैलाया।

कबूतर दानों के कारण फंस गए। वे उन अनाजों को खाने लगे। इससे ​​पहले कि वे महसूस कर पाते कि वे फंस गए हैं   चिड़िया छुपाने से छिप गई।

वह जाल के साथ कबूतरों को ले गया। अगले दिन भी वही हुआ। कबूतर जाल में फंस जाते। पक्षी पालक रोज कबूतरों को पकड़ेगा। तो कबूतरों ने खुद को जाल से बचाने के लिए एक बैठक बुलाई।

अगर पक्षीपाल ऐसा रोज करता है ।। हम सब पकड़े जाएंगे। कौवे हमारे घोंसले में बस जाएंगे। चुप! किसी को भी जाल में नहीं फंसना चाहिए। लेकिन हम यह पता नहीं लगा सकते हैं कि जाल बिछाया गया है।

मैं केवल अनाज देख सकता हूं। ये सही है। हम इस तरह से अनाज नहीं रख पाएंगे। चलिए उसके लिए एक ट्रिक लेकर आते हैं। हम बर्डकैचर को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं।

अगर कोई उसे जंगल में देखे   उसे गाना शुरू करना चाहिए। खबर को सबके सामने फैलाया। वह एक अच्छा विचार है। यह काम करेगा।

ताकि सभी को पता चल जाए कि वह कहां जाल बिछा रहा है। किसी को भी उस जगह पर नहीं जाना चाहिए। कबूतरों की सभा के बाद   अगले दिन बर्डकैचर जंगल में घुस गया। और कबूतर गाने लगे।

खबरदार, बर्डकैचर यहाँ है। खबरदार। अनाज देखकर लालची मत बनो। अपना जीवन मत खोओ। कबूतर मुझे देखकर रो रहे हैं। बर्डकैचर समझ गया।

लेकिन फिर भी उसने जाल बिछाया। और अनाज भी फेंक दिया। और एक पेड़ के पीछे छिप गया। दोपहर बीत गई और शाम हो गई, लेकिन कोई कबूतर वहां नहीं पहुंचा।

बर्डकैचर ने महसूस किया कि कबूतरों को उसके जाल के बारे में पता था। तो उसने जंगल में आना बंद कर दिया। कबूतर पहले की तरह सुख से रहते थे। एक ही चिडिय़ा कई महीनों बाद जंगल में आई।

एक बुजुर्ग कबूतर बहुत चतुराई से   गाना शुरू किया। खबरदार, बर्डकैचर यहाँ है। खबरदार। अनाज के लिए लालची मत बनो। अपना जीवन मत खोओ। दूसरे कबूतर भी गाने लगे।

अनाज के लिए लालची मत बनो। अपना जीवन मत खोओ। खबरदार, बर्डकैचर यहाँ है।  कबूतर मुझे देखकर चिल्ला रहे हैं। बर्डकैचर ने महसूस किया कि। खबरदार, बर्डकैचर यहाँ है।

खबरदार। खबरदार, बर्डकैचर यहाँ है। लेकिन फिर भी उसने अपना जाल बिछाया। और वह एक पेड़ के पीछे छिप गया। कबूतर अभी भी चहक रहे थे।

कुछ समय बाद, एक कबूतर को लगा जैसे अनाज हो। यह अनाज की ओर उड़ गया। दूसरे कबूतर उस पर चिल्लाने लगे। नहीं! नहीं! मत जाओ। यह वहां खतरनाक है।

रुकें!  रुकें!  खबरदार। यह वहां खतरनाक है। लेकिन कबूतर ने उनकी बात नहीं मानी। वह जाल के ऊपर फेंके हुए दाने रखने लगा।

पक्षी को जाल में फँसा देखकर चिड़िया वहाँ पहुँच गई। और पक्षी के साथ छोड़ दिया। फंसे हुए कबूतर ने एक गाना गाया क्योंकि वह दूर ले जाया गया था।

खबरदार। खबरदार। बर्डचैकर आने पर सावधान रहें। मेरी तरह मत फंसो। अपना जीवन मत खोना। सावधान रहें। अपना जीवन मत खोना। कहानी का नैतिक है: लालच के गंभीर परिणाम होते हैं।

बुधु सारस | Best Hindi Story For Kids New Hindi Story | Hindi Story

तो, तुम सब गए? हाँ, हम सब यहाँ हैं। अपनी किटी से कहानियाँ निकालो और हमें कहानियाँ सुनाओ। काना मामा के पास आपको पेश करने के लिए उनकी कहानियों के अलावा कुछ भी नहीं है।

मेरी बात सुनो। एक बार की बात है एक राजा था ।। चाचा, राजाओं और राक्षसों की कहानियाँ। क्यों? क्या हुआ? क्या आप जानते हैं कि टिटली जानवरों और पक्षियों के कई भंडार जानता है?

हमें आज पक्षियों और जानवरों की कहानियां सुनाएं। ठीक है। मैं आपको ऐसी कहानियाँ सुनाता हूँ। लेकिन इन कहानियों को कभी भूलें। मेरी बात सुनो। एक बूढ़ा बगुला था।

उसकी दृष्टि खराब थी। भूखे रहने ने उसे कमजोर बना दिया था। एक दिन उसने एक पेड़ पर चढ़कर उड़ान भरी। पेड़ में कई पक्षी रहते थे। वे सभी पुराने बगुले के आसपास इकट्ठा हो गए।

और तब देखो कैसे बगुला दिन के समय में भी दर्जन भर है। हाँ तुम सही हो। वह पीला दिखता है। ऐसा लगता है कि उन्होंने कई दिनों तक खाना नहीं खाया।

आइए उससे पूछें कि वह इस विकट स्थिति में क्यों है। हाँ तुम सही हो। हे बगुले! हे बगुले! बगुला, तुम कहाँ से आए हो?  दूर देश में एक पेड़ से। आप अपनी जन्मभूमि छोड़कर यहाँ क्यों आए?

यह एक दुखद कहानी है।  क्या? अपनी दुख भरी कहानी हमारे साथ साझा करें। भाइयों, मैं वृद्ध हो चुका हूं। मेरे पंख मजबूत नहीं हैं। मेरी दृष्टि खराब है। जहाँ मैं रहता था वहाँ कई युवा बगुले थे।

उन्होंने कभी मेरा सम्मान नहीं किया। वे मुझे खाने से वंचित करने के लिए अपनी शारीरिक शक्ति का उपयोग करेंगे। मैंने दिनों तक भूखे रहकर अपनी सारी ताकत खो दी।

मुझे बहुत दुख हुआ कि मैं अपना घर छोड़कर यहाँ गया। मुझे लगा कि मेरे पंख मुझे जहां भी ले जाएंगे, मैं वहां जाऊंगा। लेकिन, मैं काफी मजबूत नहीं हूं।

मैं कुछ देर तक उड़ने के बाद थक गया और आपकी शाखाओं में शरण ली। अरे नहीं! वह एक दुखी आत्मा है। हम सब एक दिन बूढ़े हो जाएंगे।

ठीक है, बगुला। आपको कहीं नहीं जाना पड़ेगा। यहाँ रुको। हम आपके लिए खाना लाएंगे लेकिन हमारी एक शर्त है। कृपया मुझे अपने नियम और शर्त बताओ।

चारों ओर एक शरारती बिल्ली है। हम हमेशा उससे डरते हैं। बिल्ली लालची है और हमारे बच्चों को खाना चाहती है। इसलिए, जब हम भोजन की तलाश में बाहर जाते हैं, तो हम कभी भी शांत नहीं होते हैं।

आप दिन के समय हमारे बच्चों की देखभाल करेंगे। शाम को घर लौटने पर हम आपको भोजन देंगे। वाह! यह एक शानदार प्रस्ताव है। मैं बैठकर भोजन प्राप्त कर सकता हूं।

तथास्तु! तथास्तु! उस दिन से पक्षी बिना किसी चिंता के भोजन की तलाश में निकल जाते थे। बूढ़ा बगुला अपने बच्चों पर नज़र रखता था। जब शाम को पक्षी घर लौटते थे, तो बगुला भोजन करता था।

इस व्यवस्था ने उनके लिए दिनों तक अच्छा काम किया। पर एक दिन Who? कौन है वहाँ? डरो मत, बगुला। मै एक बिल्ली हूँ। Who? ओह! तो, तुम बिल्ली हो। पक्षियों ने मुझे तुम्हारे बारे में बताया।

आप उनके बच्चों को खाना चाहते हैं। है ना? लेकिन, जब तक मैं जीवित हूं मैं आपको सफल नहीं होने दूंगा। सावधान रहें! यदि आप आगे बढ़ते हैं तो मैं आपको चोंच मारूंगा।

अरे नहीं! क्या कह रहे हो भाई? मैं अब जीवित प्राणियों को नहीं मारता। पक्षियों ने मेरे बारे में जो भी कहा वह मेरा अतीत है। मैंने सभी शातिरों को छोड़ दिया है। मैं अब एक धर्मी बिल्ली हूँ।

मेरे पास यहां आने के कुछ और कारण हैं। क्या कारण है? मैंने सुना है कि तुम बहुत धार्मिक और दयालु हो। आप शिशुओं की देखभाल करते हैं और बदले में वे आपको भोजन देते हैं।

मैंने इसे अपनी आंखों से देखा है। मैं आपको कुछ अच्छी सलाह देने के लिए यहां आया हूं। मैं चाहता हूं कि आप मुझे बताएं कि मैं कैसे धार्मिक जीवन जी सकता हूं। बगुला भड़क गया था।

उसे गर्व महसूस हुआ ।। ठीक है। ठीक है। यहाँ आओ। मुझे आपके साथ कुछ अच्छी सलाह साझा करें। कुछ समय तक बात करने के बाद बूढ़ा बगुला हमेशा की तरह दूर चला गया।

उसके बाद मुझे लगता है कि बगुला थका हुआ है और दर्जनों दूर है। यह अवसर है। मैं जाऊंगा और अपना काम करूंगा। बिल्ली ने जितने बच्चे खाए और फिर गायब हो गए।

बगुला दर्जनों दूर था और यह भी महसूस नहीं किया कि क्या हुआ। जब शाम को पंछी लौटे ।।  वे अपने बच्चों को नहीं मिला। अरे नहीं! हमारे बच्चों को किसने खाया?

अगर यह पहले हुआ होता तो यह बिल्ली होती। लेकिन पुराने बगुले के यहाँ आने के बाद बिल्ली को इधरउधर नहीं देखा गया। हमारे बच्चों को कौन खा सकता है?

केवल एक ही व्यक्ति है जो ऐसा कर सकता है। हाँ तुम सही हो। यह कोई और नहीं बल्कि बूढ़ा बगुला है जो उन्हें खा गया।

उन्होंने हमारी अनुपस्थिति में हमारे बच्चों को खाया। हाँ तुम सही हो। चलिए उसे सबक सिखाते हैं। हमें उसे दंडित करना चाहिए। हाँ चलते हैं।